Skip to content

गलत डोमेन नेम आपके ब्लॉगर बनने के सपने को तोड़ सकता है| जानिए सही डोमेन नेम का चुनाव कैसे करें

what-is-a-domain-name-hindi

एक Domain Name चुनना Website बनाने या सामान्य रूप से Online Presence बनाने के सबसे महत्वपूर्ण पहलुओं में से एक है।

एक Domain Name एक Website के लिए Unique Address है। एक Domain Name में मूल रूप से एक वेबसाइट का नाम और  Domain Name Extension होता है| जैसे की .com, .net, .in, .info आदि|

यदि आप एक याद रखने में आसान Domain Name का चुनाव करने में सफल होते हैं तो भविष्य में यही Domain Name आपके एक ब्रांड के तौर पर पहचान बना सकता है|

इस लेख में हम जानेंगे की Domain Name क्या है? – in Hindi इनकी आवश्यकता क्यों पड़ती है और ये कैसे कार्य करते हैं| इसके अलावा हम अलग अलग प्रकार के Domain Name की व्याख्या भी करेंगे और कई अक्सर पूछे जाने वाले प्रश्नों की भी चर्चा करेंगे|

Domain Name क्या हैं? – in Hindi

एक Domain Name आपकी Website या Blog के Physical Address की तरह है| Domain Name को याद रखना आसान है, और यह इन्टरनेट पर किसी भी वेबसाइट को खोजना सुगम्य बनाता है|

आप किसी भी Website तक IP Address (Internet Protocol Address) के द्वारा भी पहुँच सकते हैं, लेकिन ये कुछ ऐसा ही है जैसे की किसी के घर के पते को GeoLocation यानी Lattitude और Longitude के द्वारा खोजना| 

एक Name और एक Extension वाले Domain Name इंटरनेट के बुनियादी ढांचे का एक महत्वपूर्ण हिस्सा हैं।

एक Domain Name आपकी वेबसाइट या ब्लॉग के फिजिकल एड्रेस की तरह है| Domain Name को याद रखना आसान है, और यह इन्टरनेट पर किसी भी वेबसाइट को खोजना सुगम्य बनाता है|

Domain Name Extension क्या हैं? – in Hindi

किसी URL में Domain Name के बाद आने वाला हिस्सा Domain Extension कहलाता है| जैसे की https://www.hindigenie.com में hindigenie एक Domain Name है, और .com Domain Name Extension है|

केवल .com ही Domain Name Extension नहीं है| बल्कि अनेक Domain Name Extension हो सकते हैं| जो किसी न किसी रूप में एक Domain के बारे में कुछ महत्वपूर्ण जानकारी भी देते हैं|

उदाहरण के लिए .uk Extension से यह जाना जा सकता है की वेबसाइट United Kingdom से है| 

इसके अलावा अन्य कई प्रकार के Domain Name Extension होते हैं जिनके बारे में आप आगे जानेंगे| यदि आप Domain Name Extension की सम्पूर्ण सूची के बारे में जानना चाहते हैं तो आप इसे Internet Assigned Numbers Authority (IANA) की वेबसाइट पर देख सकते हैं|

यदि आपको कोई Domain Name आपकी इच्छित Extension के साथ नहीं मिलता है तो आप अन्य Domain Extension का प्रयोग करके इसे प्राप्त कर सकते हैं|

या फिर यदि संभव हो तो अपने Domain Name में कुछ बदलाव कर सकते हैं| जैसे की यदि आपको mysite डोमेन नेम .com Extension के साथ नहीं मिलता है तो आप .Net Extension के लिए प्रयास कर सकते हैं|

किसी URL में Domain Name के बाद आने वाला हिस्सा Domain Extension कहलाता है| जैसे की https://www.hindigenie.com में hindigenie एक Domain Name है, और .com Domain Name Extension है|

DOMAIN NAME और URL में अंतर – in Hindi

Domain Name और URL में कई समानताये हैं, क्योकि दोनों ही आपको इन्टरनेट पर उपलब्ध किसी Web Page या Website तक आपको पहुँचने में मदद करते हैं|

लेकिन इनमे एक मौलिक अंतर है वह ये है की Domain Name एक URL का हिस्सा होता है| 

उदाहरण के लिए https://www.hindigenie.com एक URL है, जबकि hindigenie एक Domain Name है, और .com Domain Name Extension है| 

यदि हम एक और URL https://hindigenie.com/what-is-a-domain-name-in-hindi को देखें तो पहले डॉट और दुसरे डॉट के बीच का हिस्सा Domain Name है| और .com के बाद का हिस्सा एक Web Page का Address है|

एक URL में Domain Name के अलावा एक Protocol (Hypertext Transfer Protocol- HTTP), Path होता है जो की URL को सम्पूर्ण करता है| इसके अलावा Protocol में सुरक्षा के लिए SSL Certificate भी जोड़ा जाता है|

SSL Certificate के साथ Protocol वाले हिस्से को हम https लिखते हैं| जहाँ s यह दर्शाता है की यह URL SSL(Secured Socket Layer) से युक्त है|

Domain कैसे काम करते हैं? – in Hindi

how-domain-works-hindi

जैसा की मैंने पहले बताया की Domain Name किसी Website के Address हैं| जिनके प्रयोग से हम वांक्षित वेबसाइट तक पहुँच सकते हैं| अब सवाल यह है की यह सारी प्रक्रिया कैसे काम करती है| 

हर के Website के दो प्रमुख घटक होते हैं पहला एक Domain Name और दूसरा Hosting Server

जहाँ वेबसाइट वास्तव में स्थित होती है| जब किसी वेबसाइट को Hosting Server पर अपलोड किया जाता है| तब इस वेबसाइट के लिए Hosting Server द्वारा एक यूनिक IP Address प्रदान किया जाता है|

यह एक ग्लोबल IP Address होता है जिसे कोई भी एक्सेस कर सकते है और इसके द्वारा Website को Browser में ओपन कर सकता है| एक IP Address हमेशा Numbers का एक Unique Combination होता है| जैसे की 10.44.51.101

ज़ाहिर है की इसे याद रखना आसान नहीं है| इसी कारन Domain Name का प्रयोग किया जाता है|

Hosting Server से प्राप्त IP Address और Domain Name एक दुसरे से जुड़े हुए रहते है| इन्हें जोड़ने का काम एक अन्य Server करता है जिसे Domain Name Server (DNS) कहा जाता है|

इस DNS पर एक लिस्ट होती है जिसमे सभी IP Address और उनसे सम्बंधित Domain Name रहते हैं| 

जब हम Browser पर एक URL टाइप करके एंटर बटन दबाते हैं, तब ब्राउज़र इस रिक्वेस्ट को DNS के पास भेज देता है| यदि सबसे नजदीकी DNS पर Domain Name नहीं मिलता है तो इसे आगे Forward कर दिया जाता है तब तक जब तक की Domain Name मिल नहीं जाता|

जैसे ही यह मिल जाता है तब DNS उस Domain Name से सम्बंधित IP Address ब्राउज़र को भेज देता है| अब ब्राउज़र इस IP Address की सहायता से Hosting Server से वांक्षित Web Page रिक्वेस्ट करता है

और Hosting Server रिक्वेस्ट किये गए वेब पेज के Data को Packets में भेज देता है और ब्राउज़र इस डाटा को HTML (Hyper Text Markup Language) में कन्वर्ट करके आपके ब्राउज़र पर दिखा देता है|

होस्टिंग सर्वर से प्राप्त IP Address और Domain Name एक दुसरे से जुड़े हुए रहते है| इन्हें जोड़ने का काम एक अन्य सर्वर करता है जिसे Domain Name Server (DNS) कहा जाता है|

आपको Domain Name की आवश्यकता क्यों है? – in Hindi

Domain Name लेने की सबसे प्रमुख आवश्यकता आपके Business, Website  या आपके Blog की Branding है| लेकिन कुछ अन्य कारण भी हैं जो Domain Name की आवश्यकता को प्रमुखता से परिभाषित करते हैं|

याद रखने में आसान | Easy to Remember : Domain Name याद रखने में आसान हैं| यदि Facebook.com के बजाय आपको 10.55.62.201 को हर बार टाइप करना पड़े तो क्या आप ऐसा करना चाहेंगे?

ज़ाहिर है की नहीं| Professionals और Businesses हमेशा ऐसे Domain Name का चुनाव करते हैं जो की सुनने और बोलने में आसान हो, जो कम से कम अक्षरों के हो जिससे की उन्हें आसानी से याद रखा जा सके|

उदाहरण के लिए आप किसी भी बड़े बिज़नेस के Domain Name को देख सकते हैं, जैसे की Facebook.com, Twitter.com, Flipkart.com, Amazon.com आदि|

ब्रांडिंग | Branding : यदि आप अपने बिज़नेस के अनुसार एक ऐसा Domain Name चुनते हैं| जो आपके पूरे बिज़नेस को परिभाषित कर सकता हो तो यह आपकी Brand Value को और मजबूती दे सकता है| 

उदाहरण के लिए गूगल अल्फाबेट कारपोरेशन का ही एक ब्रांड है| लेकिन पूरी दुनिया Google को जानती है, जबकि Alphabet Corporation के बारे में सभी को नहीं पता|

विश्वसनीयता | Reliability : कोई कारन न होते हुए भी लोग Custom Domain Name वाली वेबसाइट पर ज्यादा भरोसा करते हैं| और वैसे भी एक Custome Domain Name देखने में प्रोफेशनल और याद रखने में आसान होता है|

उदहारण के लिए यदि आपकी वेबसाइट का Domain Name MySite.com के बजाय websitebuilder.mysite.com हो तो क्या आप ऐसा चाहेंगे? 

यूनिक ईमेल एड्रेस | Unique E-Mail Address : Custom Domain Name के साथ आप अपने बिज़नेस के लिए Custome Email Address बना सकते हैं| जैसे की [email protected] यह आपकी ब्रांडिंग और लोगो के विश्वास को और मजबूत करता है|

SEO सम्बंधित लाभ | SEO Advantages : यदि आपके Domain Name में आपके बिज़नेस से सम्बंधित कोई कीवर्ड आता है, तो यह आपके लिए लाभदायक सिद्ध हो सकता है| क्योंकि Domain Name में SEO KeyWord का आना एक अच्छा Ranking Factor है|

डोमेन के प्रकार | Types Of DOMAINS

अलग अलग Domain Name से हम किसी वेबसाइट के बारे में कुछ विशेष जानकारी प्राप्त कर सकते हैं| यहाँ हम Domain के  कुछ प्रमुख प्रकारों के बारे में जानेंगे|

टॉप लेवल डोमेन | Top Level Domain (TLD)

Top Level Domain के अंतर्गत हम वास्तव में Domain Extension की बात करते हैं| जैसे की .com, .net, .io या .store, इनमे से .com Extension अबसे ज्यादा लोकप्रिय है और दुनिया की लगभग 54% वेबसाइट इसका प्रयोग करती हैं|

ज्यादातर लोग किसी Domain का Extension जाने बगैर ही जाने अनजाने में .com ही ज्यादा टाइप करते हैं| जिससे की इस Exetnsion वाले Domain पर ज्यादा ट्रैफिक आने की सम्भावना बनती है|

कंट्री कोड टॉप लेवल डोमेन | Country Code Top Level Domain (ccTLD)

जैसा की नाम से ही स्पष्ट है, एक Country Code Top Level Domain (ccTLD) किसी देश के लिए एक विशिष्ट Extension है| इसमें International Country Code के आधार पर 2 Letters का एक कोड होता है| जैसे की USA के लिए .us, India के लिए .in और Japan के लिए .jp. 

इस प्रकार कुछ बिज़नेस जो स्वयं को किस विशेष देश पर केन्द्रित रखना चाहते हैं वो इसके Country Code Top Level Domain (ccTLD) का प्रयोग करते हैं| जैसे की Amazon की मुख्य वेबसाइट Amazon.com हैं लेकिन वहीँ भारत के लिए यह Amazon.in है| 

जेनेरिक टॉप लेवल डोमेन | Generic Top Level Domain (gTLD)

Generic Top Level Domain (gTLD) के लिए आपको किसी विशेष देश से होना आवश्यक नहीं है| इसके कोई भी प्राप्त कर सकता है| लेकिन इसके द्वारा आपकी वेबसाइट के विजिटर के लिए भ्रम की स्थिति पैदा हो सकती है,

क्योंकि Generic Top-Level Domain (gTLD) भी विशेष प्रयोजन को संदर्भित करने के लिए बनाये गए हैं| जैसे की .org Extension एक Organization को संदर्भित करता है| 

इसके अलावा कुछ Generic Top Level Domain (gTLD) को प्राप्त करने के लिए कुछ विशेष मानदंड होते हैं, जैसे की .edu Domain के लिए आपकी वेबसाइट Education Field से सम्बंधित होनी चाहिए| या .gov केवल Government Website के लिए सुरक्षित Domain Extension है|

यदि आपका बिज़नेस या प्रोजेक्ट इनमे से किसी विशेष क्षेत्र से सम्बंधित नहीं है तो आप इन Generic Top Level Domain (gTLD) का प्रयोग नहीं कर पायेंगे|

इस स्थिति में आपको अन्य Top Level Domain जैसे की .com, .net, .info आदि जैसे Domain Extension का प्रयोग करना होगा| 

सेकंड लेवल डोमेन | Second Level Domain (SLD)

Second Level Domain (SLD) डोमेन के अनुक्रम में TLD से नीचे आता है| SLD डोमेन नेम का वह हिस्सा है जो अंतिम डॉट के बाईं और होता है|

उदाहरण के लिए https://hindigenie.com में hindigenie, Second Level Domain है जबकि .com Top Level Domain है|

कुछ Domain Name Registries एक विशिष्ट इकाई पंजीकरण को इंगित करने के लिए Second Level Domain (SLD) का उपयोग करती हैं। उदाहरण के लिए, भारत में शैक्षणिक संस्थान ज्यादातर .ac.in के तहत वेबसाइट रजिस्टर करते हैं।

सब डोमेन | Subdomain

एक Subdomain को Register करने की आवश्यकता नहीं होती है| बल्कि यह आपके Parent Domain से अलग एक विभाजन को दर्शाने के लिए प्रयोग में लाये जाते हैं|

यदि आपकी वेबसाइट पर अलग अलग प्रकार के कंटेंट है जो एक दुसरे से सर्वथा भिन्न हैं तो आप Content को Organise करने के लिए Subdomain का प्रयोग कर सकते हैं|

उदाहरण के लिए यदि आपकी Website पर English के साथ साथ French भाषा में भी कंटेंट उपलब्ध है तो आप इसे fr.mysite.com और en.mysite.com में विभाजित कर सकते हैं| यहाँ fr और en सबडोमेन हैं| 

फ्री डोमेन |  Free Domain

ज्यादातर CMS Platforms आपको एक Website बनाने और होस्ट करने के लिए Free Domain और Hosting Space प्रदान करते हैं| वास्तव में ये Free Domain एक Sub Domain होते हैं|

उदाहरण के लिए आप WordPress पर mysite.wordpress.com के नाम से एक Free Domain बना सकते हैं| इसके अलावा Blogger.com पर भी इसी प्रकार mysite.blogger.com नामे से  Free Domain बना सकते हैं|

अगर आप प्रायोगिक तौर पर कोई वेबसाइट बना रहे हैं या आप शुरू में पैसे खर्च नहीं करना चाहते हैं तो आप इन Free Domain का प्रयोग करके सबसे Popular CMS Platforms जैसे की WordPress और Blogger पर अपनी वेबसाइट बना सकते हैं|

अगर आप एक Top Level Free Domain चाहते हैं तो आप इसे https://www.dot.tk पर जाकर रजिस्टर कर सकते हैं| यहाँ आपको .tk, .ml, .ga, .cf और .gq नाम से डोमेन मिल जायेंगे|

जिसे आप किसी भी अन्य Top Level Domain की तरह प्रयोग कर सकते हैं| ध्यान देने वाली बात यह है की यह Domain आपको अधिकतम १२ Month के लिए ही Free मिलेगा और आगे आपको इसकी कीमत चुकानी पड़ेगी|

मेरे विचार

एक Domain Name एक Unique Address है जिसका उपयोग किसी वेबसाइट तक पहुँचने के लिए किया जाता है। एक Custom Domain Name नाम होने के कई फायदे हैं, जैसे याद रखने में आसान, ब्रांडिंग और एसईओ।

इस लेख में, हमने बताया कि Domain Name क्या है, यह  कैसे काम करते हैं, और  उनके विभिन्न प्रकार।

हमें उम्मीद है कि इस लेख ने आपको एक Domain Name क्या है? और उन्हें अपने ऑनलाइन बिज़नेस या प्रोजेक्ट में कैसे शामिल किया जाए, इसकी एक बुनियादी समझ दी है।

अभिषेक

आपकी प्रतिक्रिया भेजें

Your email address will not be published. Required fields are marked *